सरसों का साग

Posted on Updated on

ये टेस्ट पोस्ट है फोटो के साथ आसानी से पोस्ट करने के लिए पोस्टरस डॉट कोम का सहारा लिया गया है


ओ बल्ले बल्ले…..ते शावा शावा…होर बादशाओ हो जाये रोटी-शोटी ……तो चल पडो बादशाओ देर किस बात की……जी हां आज हम पंजाबी व्यंजन का मजा लेगे……..पंजाब जिसका जिक्र आते ही वहाँ की खूबसूरत मुटियारे (लड़कियां) भांगड़ा करते जोशीले गबरू जवान, लोहड़ी ,टप्पे ,बैशाखी ,गिद्दा ,हरे भरे सरसों के खेत और नजाने क्या क्या याद आजाता है………जैसे पंजाब के सोनी-महिवाल, हीर-रांझा और सस्सी-पनु ये लोक कथाएँ मशहूर है वैसे ही वहाँ का स्वाद…..तो चलिए आप को ले चलते है पंजाब की खास रसोई में वहाँ की देसी खुशबु और लाजवाब स्वाद में……..

मक्के दी रोटी ते सरसों दा साग………..

सरसों का साग

सामग्री

1.       सरसों की पत्तियां –  एक किलो

2.       पालक –           दो सौ पचास ग्राम

3.       बथुआ –           सौ ग्राम(यदि मन हो)

4.       हरी मिर्च –         आठ

5.       प्याज –           दो(मध्यम आकार के)

6.       लहसुन –           आठ से दस कलियाँ

7.       अदरक –           एक इंच का टुकड़ा

8.       मक्की का आटा –   दो चम्मच

9.       लाल मिर्च पाउडर –  एक छोटा चम्मच

10.   तेल –             दो बड़े चम्मच

11.   नमक –           स्वादानुसार

12.   मक्खन            दो बड़े चम्मच

विधि

·         सरसों ,पालक ,बथुआ के पत्तों को धो कर मोटा मोटा काट लें

·         प्याज ,लहसुन ,अदरक को छीलकर बारिक काट लें

·         हरी मिर्च को मोटा मोटा काट लें

·         मक्की का आटा आधे कप पानी में घोल लें

·         एक पैन में तेल गर्म करें, कटा प्याज डाले और दो तीन मिनट चलायें

·         अब कटा अदरक, लहसुन,हरी मिर्च डाल कर थोडा चलायें

·         अब लाल मिर्च पाउडर, सरसों, पालक, बथुआ डाल दें

·         इस में आधा कप पानी मिलाएं और मध्यम आंच पर बीच बीच में चलाते हुए दस मिनट तक पकाएं

·         अब घोल हुआ मक्की का आटा मिलाएं और फिर छह सात मिनट तक चलाते हुआ पकाएं

·         अब इस मिश्रण को ठंडा कर के थोडा मोटा पीस लें

·         इस मिश्रण को फिर से गर्म कर के उसमे नमक और मक्खन डाले और अच्छी तरह चलायें

·         साग तैयार है इसे गर्म गर्म सर्व करे

Advertisements

One thought on “सरसों का साग

    राजीव नन्दन द्विवेदी said:
    जून 23, 2010 को 6:13 अपराह्न

    भौजी ! ये आलेख दूसरी बार प्रकाशित हो गया है, पर स्वाद उतना ही है, कम नहीं हुआ. 🙂

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s