बनाना शेक

Posted on

bnanaठंडा ठंडा –कूल कूल

बनाना शेक

सामग्री (एक ग्लास बनाने के लिए )

1. उबला ठंडा दूध -३/४ कप

2. केला –एक

3. चीनी –एक चम्मच

4. बर्फ के टुकड़े –तीन या चार

5. एक्टीबेस पाउडर –दो चम्मच

विधि

· केला छीलकर काट लें ,चीनी डाल कर ब्लेंडर में अच्छी तरह से ब्लेंड करें

· दूध मिलाये और मिश्रण को खूब अच्छी तरह से फेंटे जब तक की उसमे झाग न नजर आने लगें

· अब शेक में एक्टीबेस पाउडर मिलाये और मिश्रण को अच्छी तरह मिलालें

· अब बर्फ के क्यूब्स डाल कर सर्व करें

Advertisements

3 thoughts on “बनाना शेक

    satyam shivam said:
    जून 24, 2011 को 5:01 अपराह्न

    आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (25.06.2011) को “चर्चा मंच” पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये……”ॐ साई राम” at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    Mukesh Agarwal said:
    जून 19, 2012 को 11:09 अपराह्न

    हम यहां कुछ ऐसे खाद्य वस्तुओं और फलों का नाम बता रहे हैं, जिनको कभी भी साथ-साथ खाने की कोशिश न करें। अगर आप इन्हें साथ-साख खाते हैं, तो यह आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। अत: इसका ध्यान रखें, अन्यथा लेने के देने पड़ सकते हैं —-

    ● नींबू, मूली, केला, तोरई की सब्जी, नमक, दही और किसी प्रकार का मांस खाने के बाद दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

    ● केला, कटहल और गर्म पानी के साथ दही नहीं खाना चाहिए।

    ● गरम पानी, वर्षा का पानी, अन्य गरम पदार्थ, मछली, मूली के साथ शहद का सेवन नहीं करना चाहिए।

    ● खीर के साथ मदिरा, खीर के साथ गुड़, गुड़ के साथ मछली, छाछ के साथ केले का सेवन न करें।

    ● घी और शहद को बराबर मात्रा में कभी न लें। यह जहर का काम करते हैं। कुछ इसी तरह से दो चिकने पदार्थ को बराबर मात्रा में मिलाकर कभी नहीं लेना चाहिए।

    ● दूध के साथ नींबू व अन्य किसी खट्टे पदार्थ या खट्टे फल का सेवन न करें।

    ● किसी भी तरह के ठंडे पेय के साथ चाय या कॉफी को लेने की कोशिश न करें।

    ● खरबूजे और मूली के साथ शहद का सेवन भूलकर भी न करें। इसी तरह से दही के साथ भी खरबूजे को न खाएं।

    क्या खाएं, क्या न खाएं -2

    दूध के साथ फल खाने चाहिए या नहीं?
    दूध के साथ फल लेते हैं तो दूध के अंदर का कैल्शियम फलों के कई एंजाइम्स को एड्जॉर्ब (खुद में समेट लेता है और उनका पोषण शरीर को नहीं मिल पाता) कर लेता है। संतरा और अनन्नास जैसे खट्टे फल तो दूध के साथ बिल्कुल नहीं लेने चाहिए। व्रत वगैरह में बहुत से लोग केला और दूध साथ लेते हैं, जोकि सही नहीं है। केला कफ बढ़ाता है और दूध भी कफ बढ़ाता है। दोनों को साथ खाने से कफ बढ़ता है और पाचन पर भी असर पड़ता है। इसी तरह चाय, कॉफी या कोल्ड ड्रिंक के रूप में खाने के साथ अगर बहुत सारा कैफीन लिया जाए तो भी शरीर को पूरे पोषक तत्व नहीं मिल पाते।

    मछली के साथ दूध पिएं या नहीं?
    दही की तासीर ठंडी है। उसे किसी भी गर्म चीज के साथ नहीं लेना चाहिए। मछली की तासीर काफी गर्म होती है, इसलिए उसे दही के साथ नहीं खाना चाहिए। इससे गैस, एलर्जी और स्किन की बीमारी हो सकती है। दही के अलावा शहद को भी गर्म चीजों के साथ नहीं खाना चाहिए।

    फल खाने के फौरन बाद पानी पी सकते हैं, खासकर तरबूज खाने के बाद?
    फल खाने के फौरन बाद पानी पी सकते हैं, हालांकि दूसरे तरल पदार्थों से बचना चाहिए। असल में फलों में काफी फाइबर होता है और कैलरी काफी कम होती है। अगर ज्यादा फाइबर के साथ अच्छा मॉइश्चर यानी पानी भी मिल जाए तो शरीर में सफाई अच्छी तरह हो जाती है। लेकिन तरबूज या खरबूज के मामले में यह थ्योरी सही नहीं बैठती क्योंकि ये काफी फाइबर वाले फल हैं। तरबूज को अकेले और खाली पेट खाना ही बेहतर है। इसमें पानी काफी ज्यादा होता है, जो पाचन रसों को डाइल्यूट कर देता है। अगर कोई और चीज इसके साथ या फौरन बाद/पहले खाई जाए तो उसे पचाना मुश्किल होता है। इसी तरह, तरबूज के साथ पानी पीने से लूज-मोशन हो सकते हैं। वैसे तरबूज अपने आप में काफी अच्छा फल है। यह वजन घटाने के इच्छुक लोगों के अलावा शुगर और दिल के मरीजों के लिए भी अच्छा है।

    खाने के साथ फल नहीं खाने चाहिए।
    कार्बोहाइड्रेट और प्रोटींस के पाचन का मिकैनिज्म अलग होता है। कार्बोहाइड्रेट को पचानेवाला स्लाइवा एंजाइम एल्कलाइन मीडियम में काम करता है, जबकि नीबू, संतरा, अनन्नास आदि खट्टे फल एसिडिक होते हैं। दोनों को साथ खाया जाए तो कार्बोहाइड्रेट या स्टार्च की पाचन प्रक्रिया धीमी हो जाती है। इससे कब्ज, डायरिया या अपच हो सकती है। वैसे भी फलों के पाचन में सिर्फ दो घंटे लगते हैं, जबकि खाने को पचने में चार-पांच घंटे लगते हैं। मॉडर्न मेडिकल साइंस की राय कुछ और है। उसके मुताबिक, फ्रूट बाहर एसिडिक होते हैं लेकिन पेट में जाते ही एल्कलाइन हो जाते हैं। वैसे भी शरीर में जाकर सभी चीजें कार्बोहाइड्रेट, फैट, प्रोटीन आदि में बदल जाती हैं, इसलिए मॉडर्न मेडिकल साइंस तरह-तरह के फलों को मिलाकर खाने की सलाह देता है।

    मीठे फल और खट्टे फल एक साथ न खाएं
    आयुर्वेद के मुताबिक, संतरा और केला एक साथ नहीं खाना चाहिए क्योंकि खट्टे फल मीठे फलों से निकलनेवाली शुगर में रुकावट पैदा करते हैं, जिससे पाचन में दिक्कत हो सकती है। साथ ही, फलों की पौष्टिकता भी कम हो सकती है। मॉडर्न मेडिकल साइंस इससे इत्तफाक नहीं रखती।

    खाने के साथ पानी पिएं या नहीं?
    पानी बेहतरीन पेय है, लेकिन खाने के साथ पानी पीने से बचना चाहिए। खाना लंबे समय तक पेट में रहेगा तो शरीर को पोषण ज्यादा मिलेगा। अगर पानी ज्यादा लेंगे तो खाना फौरन नीचे चला जाएगा। अगर पीना ही है तो थोड़ा पिएं और गुनगुना या नॉर्मल पानी पिएं। बहुत ठंडा पानी पीने से बचना चाहिए। पानी में अजवाइन या जीरा डालकर उबाल लें। यह खाना पचाने में मदद करता है। खाने से आधा घंटा पहले या एक घंटा बाद गिलास भर पानी पीना अच्छा है।

    लहसुन या प्याज खाने चाहिए या नहीं?
    लहसुन और प्याज को रोजाना के खाने में शामिल किया जाना चाहिए। लहसुन फैट कम करता है और बैड कॉलेस्ट्रॉल (एलडीएल) घटाकर गुड कॉलेस्ट्रॉल (एचडीएल) बढ़ाता है। इसमें एंटी-बॉडीज और एंटी-ऑक्सिडेंट गुण होते हैं। प्याज से भूख बढ़ती है और यह खून की नलियों के आसपास फैट जमा होने से रोकता है। लंबे समय तक इसके इस्तेमाल से सर्दी-जुकाम और सांस संबंधी एलर्जी का मुकाबला अच्छे से किया जा सकता है। लहसुन और प्याज कच्चा या भूनकर, दोनों तरह से खा सकते हैं। लेकिन लहसुन कच्चा खाना बेहतर है। कच्चे लहसुन को निगलें नहीं, चबाकर खाएं क्योंकि कच्चा लहसुन कई बार पच नहीं पाता। साथ ही, उसमें कई ऐसे तेल होते हैं, जो चबाने पर ही निकलते हैं और उनका फायदा शरीर को मिलता है।

    परांठे के साथ दही खाएं या नहीं?
    आयुर्वेद के मुताबिक परांठे या पूरी आदि तली-भुनी चीजों के साथ दही नहीं खाना चाहिए क्योंकि दही फैट के पाचन में रुकावट पैदा करता है। इससे फैट्स से मिलनेवाली एनजीर् शरीर को नहीं मिल पाती। दही खाना ही है तो उसमें काली मिर्च, सेंधा नमक या आंवला पाउडर मिला लें। हालांकि रोटी के साथ दही खाने में कोई परहेज नहीं है। मॉडर्न साइंस कहता है कि दही में गुड बैक्टीरिया होते हैं, जोकि खाना पचाने में मदद करते हैं इसलिए दही जरूर खाना चाहिए।

    sauravchauhan said:
    जून 30, 2012 को 3:18 अपराह्न

    i like aap ka banana shek

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s