काश्मीरी रसोई (Kashmir)

भरवाँ गज़ल –

Posted on Updated on

कई दिन हो गए मुझे ब्लॉग लिखते हुए … पहली बार कुछ लिखना शुरू किया था मैंने … पोस्ट करने के बाद हर बार मेरी नज़र ब्लॉग के स्टेटस पर जाती है … उत्सुकता होती है कि मुझे कितने लोगों ने पढ़ा … कल जब मेरे पाठक बहुत कम हो गए…ग्राफ सीधे नीचे गोता लगा गया था कल …. तो सोचा आज क्यों न कोई नयी और अनूठी रेसिपी पेश करूँ… कुछ मित्रों की शिकायत थी कि आप विधि तो बताती हैं पर कभी बना कर खिलाइये भी … तो आज पेश है आपको एक तैयार रेसिपी – स्वाद लें (पसंद आये तो आशीष भी दें)

भरवाँ गज़ल –

सामग्री-
1. केसरिया जज़्बात
2. प्यार की चाशनी
3. तीखी यादें
4. आंसुओं का नमक
5. एहसास की खुशबू
6. मिजाज़ का खट्टा
इन सब को मिला कर दिल हौले हौले भरें और गम की मद्धम आंच पर पकाएं … और ठंडा होने से पहले ही सर्व करें … (नोट- ये रेसिपी दिलजलों की बस्ती में बड़ी चाव से इस्तेमाल की जाती है….)
आप को नज़र है नोश फरमाएं—
तनहाइयों का सिलसिला ये कैसा है
गर वो मेरा है तो फासला ये कैसा है

तुम न आओगे कभी ये मै जानती हूँ
फिर तेरी यादो का काफिला ये कैसा है

कभी नाचती थी खुशियाँ मेरे आंगन में
अब उदासियों का मरहला ये कैसा है

देख लूँ उसको तो दिल को सुकूं आये
मुझे जान से प्यारा दिलजला ये कैसा है

एहसास हो जायेगा मेरे जज़्बात का तुझको
देख मेरी आँखों में ज़लज़ला ये कैसा है

न इश्क ही जीता और न दिल ही हारा
वफ़ा की राह में मेरा हौसला ये कैसा है

हौसला तुझमे भी नहीं है जुदा होने का
दूर हो कर भी भला मामला ये कैसा है
(ये मेरी पहली गज़ल है …. अगर पसंद आये तो हौसला दें)

नडियार पालक(कमलककड़ी पालक)और दम आलू KAMAL KAKADI PALAK

Posted on Updated on

धरती पर कहीं स्वर्ग है तो वो यहीं है………जी हाँ मै धरती के स्वर्ग यानि कश्मीर की ही बात कर रही हूँ बर्फ से ढकी खूबसूरत वादियों की नर्म धूप……. कांगडी पर आंच सेंकते कश्मीरी लोग…… डल झील का खूबसूरत नजार……..और उसमे तैरते हॉउस बोट और शिकारे, ये सब उतना ही खूबसूरत है जितना वहाँ के लोग और उनके अंदाज, कश्मीरी लोग देश विदेश से आये लोगो का बहुत गर्मजोशी से स्वागत करते है और उन्हें अपना बना लेते है….. तो क्यों न हम कश्मीरी भोजन और वहाँ की मेहमान न वाजी का मजा लें
दम आलू
सामग्री
1. आलू मध्यम आकार के –छह
2. लौंग –चार
3. इलाइची –चार
4. दालचीनी –एक टुकड़ा
5. जीरा –आधा चम्मच
6. हींग –चुटकीभर
7. इलाइची बड़ी –दो
8. कश्मीरी लालमिर्च पाउडर –चार छोटा चम्मच
9. सौफ –दो छोटा चम्मच
10. सोंठ पाउडर –आधा चम्मच
11. गर्म मसाला –एक चौथाई चम्मच
12. तेल और नमक –स्वादानुसार
विधि
• आलू को अधपका उबाल लें
• अब उसे छील कर छोटे छोटे टुकडो में काट लें
• फिर तेल गर्म करके उसे सुनहरा भून लें
• आलू तलते समय एक चौथाई चम्मच नमक डाल दें
• आलू को छान कर अलग रख दें
• कड़ाही में तेल गर्म करके उसमे लौंग,दालचीनी,इलाइची,जीरा,हींग और बड़ी इलाइची डाल दें
• कुछ सेकंड फ्राई करने के बाद कश्मीरी लालमिर्च ओए आधा कप पानी डालें
• फिर सोठ पाउडर और सौफ डाल कर तीस सेकंड तक चलायें
• चार गिलास पानी और नमक डालें
• जब ग्रेवी उबलने लगे तो आलू डालें और पानी सूखने तक पकाएं
• अब एक चौथाई चम्मच गर्म मसाला छिडक कर गर्म गर्म सर्व करें

नडियार पालक(कमलककड़ी पालक )पालक
सामग्री
1. कमलककड़ी -२५०ग्राम
2. पालक -१किलो
3. तेल -१कप
4. जीरा -१टीस्पून
5. लौंग –तीन
6. हींग चुटकी भर
7. लाल मिर्च पाउडर -१टीस्पून
8. हल्दी -१टीस्पून
9. सोठ पाउडर -१टीस्पून
10. सौफ पाउडर -१टीस्पून
11. दही –आधा कप
12. गर्म मसाला -१टीस्पून
13. हरीमिर्च, हरा धनिया –थोडा सा
विधि
• कमलककड़ी को अच्छी तरह से धो कर साफ कर के मोटे टुकडो में काटकर पानी में भिगो दें
• पालक ,हरीमिर्च ,हरा धनिया सबको काट लें
• कड़ाही में तेल गर्म करके कमलककड़ी को तल लें
• इसी तेल में जीरा ,लौग और हींग का छौक लगाएं
• हल्दी ,लालमिर्च पाउडर,और एक टीस्पून पानी डालकर चलायें
• जब कड़ाही तेल छोड़ने लगे तब पालक डालें और चलते रहें
• जब पालक पक जाएँ तब उसमे कमलककड़ी के टुकड़े डालें
• फिर फेंटा हुआ दही ,अदरक और सौफ पाउडर डाल कर चलायें
• तब तक चलायें जब तक दही और मसाला अच्छी तरह से मिल ना जाएऔर पानी ना सुख जाये
• जब पालक और कमलककड़ी पक जाएं और तेल छोड़ने लगे
• तब एक कप पानी डालकर दस मिनट तक पकाएं
• फिर पानी सुख जाने पर दो तीन बार अच्छे से चलाकर
• हरी धनिया और हरी मिर्च से सजा कर सर्व करें

मूली का रायता

Posted on


सामग्री
1. दही-२५०ग्राम
2. मूली-एक
3. हरीमिर्च –दो तीन(बारीक़ कटी )
4. जीरा पाउडर –थोडा सा
5. नमक –स्वादानुसार
विधि
• गाढ़ा दही लें और उसे फेट लें
• मूली को कद्दूकस करके पानी निचोड लें और दही में मिला दें
• अब हरी मिर्च ,नमक और जीरा पाउडर डाल दें
• मूली का रायता तैयार है

काहवा

Posted on


सामग्
री
1. पानी –एक कप
2. दालचीनी-दो तीन टुकड़े
3. हरी इलाइची –दो तीन
4. थोड़ी सी केसर
5. चीनी –स्वादानुसार
6. काहवा –नौ दस पत्तियां
7. बादाम बारीक़ कटी –पांच छह
विधि
• एक पैन में पानी उबाल लें
• इसमें दालचीनी और कूटी हुई इलाइची डालें और पांच मिनट उबालें
• थोड़ी सी केसर और चीनी डालकर पांच मिनट उबालें
• काहवा की पत्तियां डाल कर पैन को ढक दें ओए दो मिनट उबालें
• अब आंच पर से उतार कर छान लें
• अब कटे बादाम डालकर गर्म गर्म सर्व करें

फिरनी

Posted on Updated on


सामग्
री
1. चावल –आधा कप (आटे के रूप में )
2. दूध मलाई वाला –आधा लीटर
3. कंडेस्ड मिल्क –आधा केन
4. मिट्टी के कुल्हड –चार पांच
5. थोडा सा केसर (गुलाब जल में भीगा हुआ )
6. इलाइची पाउडर –एक टीस्पून
7. चीनी –स्वादानुसार
विधि
• दूध और कंडेस्ड मिल्क को मिलाकर उबाल आने तक पकाएं
• इसमें चावल का आटा और चीनी मिलाएं
• गाढ़ा और मलाईदार होने तक 15-20 मिनट तक पकाएं
• इस मिश्रण कुल्हड में फिरनी की तरह रख दें
• इस के ऊपर भीगा केसर डाल दें और ठंडा कर के सर्व करें